ashwagandha ke fayde

ashwagandha benefits in hindi



https://hi.m.wikipedia.org/wiki/%E0%A4%85%E0%A4%B6%E0%A5%8D%E0%A4%B5%E0%A4%97%E0%A4%82%E0%A4%A7%E0%A4%BE
ashwagandha benefits in hindi



Hello dosto

आज में  ईस पोस्ट  मे अशवगंधा के बारे मे बिस्तार से  बताऊँगा की अशवगंधा होता क्या है अशवगंधा का हिंदी नाम क्या है और अशवगंधा खाने के फायदे तथा नुकसान किया होते है अगर आप अशवगंधा के बारे मे पूरी जानकारी जानना चाहते है तो इस पोस्ट को पूरा जरूर पढ़ें


ashwagandha hota kiya hai

अशवगंधा एक प्रकार एक पौधा होता है जिसे अगर आप उसके किसी भी हिस्से को सूंघते है तो उसका स्मेल घोड़े की मूत्र जैसी आती है  ईसलिए ईस पौधे का नाम अशव + गंधा  आनी अशवगंधा रखा गया है  ईस का scientific name withana somnifera है जिसमे withana का मतलब पेड़ो की एक प्रजाती हैं तथा somnifera का मतलब कोई ऐसा चीज जिसे खाने से tension दूर हो तथा नींद आने लगे और वह सोय जाए 





ashwagandha meaning in hindi

अशवगंधा को हिंदी मे पुनिर,नागोरी तथा असगंध भी कहते है







ashwagandha benefits in hindi 

अशवगंधा मे 40 withanolids 12 alkaloids तथा बहुत सारे sitoinosides होते है जो हमारे शरीर को अनेक तरीको से फायदा पहुँचाते हैं




  • Nootropic herb adaptogen
अशवगंधा को आयुर्वेद मे इसे मेध्य रसायन भी कहते है जिससे हमारी दिमाग की यादास्त तथा concentration बढाने के लिए उपयोग किया जाता है तथा anxiety,stress और depression को दूर करने के लिए उपयोग किया जाता है कियोंकि ईन सब चीजों को दूर करने के लिए यह आयुवेर्द की सबसे अच्छी दवा मानी गई है और अगर आप रोजाना अशवगंधा का प्रयोग करते है तो इससे आपका brain function को बेहतर करता है जिससे कोई भी चीज सीखने मे असानी होगी और बेहतर तरीके से एक ही चीज पे concentration  भी कर पायेंगे तथा दिमाग से जुड़ी और दिक्कत जैसे कि Bipolar Disorder , ADHD और OCD Disorder ईन तीनो को अच्छा करने के लिए अशवगंधा एक बहुत ही बेहतर दवा मानी जाती है





  • Nerorejaneratic properties
अशवगंधा मे nerorejaneratic properties पाई जाती है जिससे अशवगंधा का प्रयोग alzheime's disease,parkinson's disease, huntington's disease और spinal cord injury जैसी परिशनियो को सही करने के लिए बड़े से बड़े डॉक्टर इसका प्रयोग करते है और अगर आपको दिमाग से जुड़ी कोई भी परेशानी हो तो एक बार अशवगंधा का प्रयोग करके जरूर देखें और अगर आप student है और पढ़ाई कर रहे है तथा job कर रहे है या फिर कोई ऐसा काम जिसमे आपको concentration की जरूरत पड़ती है तो अशवगंधा का प्रयोग जरूर करे  इससे आपका concentration power  बढ़ेगा तथा यादास्त सही रहेगी





  • Cortisoll
Cortisol एक stress हार्मोन होते है जो कि अगर कोई आदमी बहुत लम्बे समय से stress मे है तो ये cortisol शरीर मे बहुत ज्यादा बढ़ जाते है जिसके कारण वह आदमी depression,anxiety,stress जैसी प्रॉब्लेम हो जाती है और अशवगंधा को उपयोग करने से cortisol level तथा tension को कम कर देती है जिससे हम रिलैक्स हो जाते है और जिन लोगो की isomnia यानी नींद ना आने की समश्या होती तो हम बता दे कि नींद ना आने का कारण भी tension होता है जिससे isomnia हो जाता है अगर आपको ऐसी कोई प्रॉब्लम है अशवगंधा का प्रयोग जरूर करे इससे आपका cortisol level कम होगी तथा tension दूर हो होगी जिससे दुबारा नींद आना शुरू हो जायेगी और  इस isomnia की समश्या से छुटकारा मिल जायेगा




  • Blood cortisol level

अगर आप मोटापे से परेशान है और मोटापा कम करना चाह रहे है उसके लिए आप खाना भी बहुत कम खा रहे है और फिर भी आपका शरीर का चर्बी बढ़ता जा रहा है तो चर्बी बढने का कारण यही है कि आपके शरीर मे Blood cortisol level बढ़ गया है जिसके चर्बी बढ़ता जा रहा है वजन कम करने के लिए अशवगंधा का प्रयोग करे यह blood cortisol level को कम करता है  जिससे आपका चर्बी भी कम होने लगती हैं




  • Blood cholesterol
Blood cholesterol
  • Blood cholesterol
अशवगंधा खाने से  cholesterol तथा triglyceride को कम करती है जिससे अगर आप या आपके परिवार मे कोई सदस्य को किसी भी तरह की heart disease है high cholesterol है तो वह अपने deit मे अशवगंधा को शामिल जरूर करे इससे आपका heart disease तथा cholesterol धीरे-धीरे कम हो जायेगी




  • Sport man
Sport man
  • Sport man
अगर आप किसी भी तरह का खेल-खेलते है तो अशवगंधा का प्रयोग जरूर करे इससे आपकी बॉडी power तथा concentration power बढ़ेगी जिससे आपकी performance भी बढ़ते चले जायेगी



  • Reactive oxygen species
अगर आप रोजाना 15 दिनों तक अशवगंधा का सेवन करते है तो इससे आपके शरीर के खून मे reactive oxygen species पैदा करेगी जिससे ये किसी भी तरह की cancer cells को पैदा होने से रोक देती है और ईस तरह आप cancer जैसी बड़े से बड़े बीमारियों से खुद को बचा सकते है



  • Inflammation and infection
अशवगंधा रोजाना लेने से immunity power बढ़ जाती है जिससे आप कई तरह के बीमारियों से बच सकते है तथा बहुत तरह के inflammation(सूजन) और infection से बच सकते है




  • Inccreases testosterone level naturally
Inccreases testosterone level naturally
  • Inccreases testosterone level naturally
अशवगंधा यह मर्दो के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण दवा मानी जाती है कियोंकि जब कोईं मर्द ईस अशवगंधा का प्रयोग करता है तो उसके शरीर मे बहुत ज्यादा मात्रा मे testoserone level naturally बढ़ने लगता है आपलोगों बता दे कि testoserone एक हार्मोन होता है जिससे एक लड़का मर्द बनता है और उसमें मर्दो जैसी ताक़त आती है जिससे उसके शरीर मे अच्छी मांशपेशियां बनती है , हड्डियो की चौड़ाई बढ़ती है ,आवाज गहरा होता है तथा बच्चा पैदा करने की कबालयत हो जाती है और वह एक मर्द कहलाता है




  • Sperm
Sperm
  • Sperm
अशवगंधा रोजाना खाने से sperm quality , sperm quantity और sperm motility बहुत ज्यादा बढा देता है जिससे sperm से जुड़ी कोई भी प्रॉब्लेम नही होती है 





ashwagandha powder benefits in hindi for height

हमारी height बढ़ाने के लिए 80 से 85% genetics होता हैं ओर 15 से 20% वातावरण और पोषण से होता है जो कि हमलोग का height 18 से 20 वर्ष तक बढ़ते है और हमारी  height किस तरीके से कितना बढ़ेगी ये हमारी HGH यानी हुमन ग्रोथ हॉर्मोन तय करती है और इसका कन्ट्रोल pituitary gland के हाथ मे होता है height growth हार्मोन हमारी हड्डियों के सिरे पर cartiless को stimulus करता है जिससे height growth होने मे मदद मिलती है इसमें जो main factor है वो है HGH का होता है और अब कुछ लोगो का कहना है कि अशवगंधा hight growth hormones को बढाता है और इससे हमारी height बढ़ती है लेकिन यह बात scientifically इतनी prove नही है लेकिन अशवगंधा लेने से टेस्टोसेरोन जरूर बढाता है जिससे हड्डियां मजबूत होती है और मशल्स ग्रोथ होता है लेकिन आप 18 साल के बाद height बढ़ाना चाहते है तो इसके लिए बहुत सी exercise ,yog, और अच्छी deit लेनी पड़ेगी जिससे 2 से 3 इंच height बढ़ सकती है अशवगंधा एक बहुत ही असरदार हरब है जो हमारे शरीर को कई तरह से फायदा देगा height completely बढे उसके लिए पूरी पोषक तत्वों की पूर्ति करनी होती है तब जा के कुछ इंच हाइट बढ़ती है अगर आपके शरीर मे 18 वर्ष होने तक पूरी पोषक तत्व नही मिलती है जितनी हाइट बढ़ना के चाहिए उतनी height नही बढ़ पाती है और इस पोषक तत्वों की कमी को अशवगंधा कुछ हद तक पूरी करने मे सहायक होती है

Description


DescriptionGenetics



ashwagandha churna ka sevan kaise kare

अगर आप अशवगंधा के चूर्ण का सेवन करना चाहते है तो सबसे अच्छा तरीका यह है कि किसी भी आयुवेर्दिक दुकान पर जाइये और वहाँ से अशवगंधा का सुखी जड़ या ashwagandha powder खरीद कर लाये अगर लाये तो उसे मिक्सर मशीन मे अच्छे से पीस ले और उस powder को किसी जार मे भर के रख ले अब इस चूर्ण को 5 ग्राम मात्रा मे ले और इसे 10 ग्राम देशी गाय के घी मे मिलाय तथा 20 ग्राम शहद या मिश्री मिलाये उसके बाद आधा किलो ग्राम दूध के साथ उबाले ओर फिर इसे थोड़ा ठंडा होने दे



ashwagandha kab khana chahiye

अब इस अशवगंधा के घोल को पीने के लिए सबसे अच्छा समय सुबह खाली पेट पिये इसके बाद नाश्ता ना करे फिर दो पहर का ही खाए और अगर अच्छा बदलाव चाहते है तो इस उपाय को एक साल तक लगातार रोज जरूर करे अशवगंधा सेवन करने का यही तरीका सबसे सही तरीका है अगर आप रोजाना एक साल तक ऐसा ही पीते है तो इससे आपके शरीर मे मांशपेशियां बढ़ते जायेगी तथा हड्डियां मजबूत होते जायेगी और चर्बी पूरा खत्म हो जायेगी इससे आपका दिमाग तथा समभोंग शक्ति बढ़ती चली जायेगी और वह आदमी जो इस तरह से रोजाना एक साल तक पियेगा तो वह हजारों के भीड़ मे भी सबसे अलग दिखाई देगा 





ashwagandha side effects in hindi

जैसा कि आप सब ने सुना ही होगा कि जैसे हर सिक्के का दो पेहलु होते है ठीक उसी तरह से हर एक औषधि के दो पेहलु होते है अगर कोई भी औषधि फायदा होता है तो वह औषधि ज्यादा मात्रा मे लेने से नुकसान  भी होता है और फिर ठीक इसी प्रकार अशवगंधा के कुछ है तो कुछ नुकसान भी है तो आइए जानते है अशवगंधा के नुकसान किया है 


  1. अशवगंधा का लम्बे समय तक प्रयोग करने से नींद ज्यादा आने लगेगा
  2. जो लोग इसका प्रयोग 3 महीना से ज्यादा तक सेवन कर चुके है और फिर कभी अगर आपको बुखार लगता तो बुखार का दवा का असर जल्दी नही होगा 
  3. यह औषधि एक गर्म औषधि है इसलिए इसका प्रयोग करने से पहले मात्रा ध्यान जरूर रखे कि कितना लेना है



धन्यवाद
Previous
Next Post »

Jayda Jankari ke lie comment kare ConversionConversion EmoticonEmoticon